hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

रसगुल्ला

hindi poem
रस से भरा हुआ रसगुल्ला,
खाने लगा उसे अब्दुल्ला।
था पडोस मे हल्ला-गुल्ला,
छिटक पड़ा मुँह से रसगुल्ला।
hindi poem hindi poem