hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

वट

hindi poem vat
वट का कैसा पेड़ निराला।
है कितनी शाखाओं वाला,
शाखाएँ भी जड़ बन जाती,
हैं इसका आकार बढ़ाती।।
hindi poem vat hindi poem vat