hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

बकरी

hindi poem goat
बकरी कैसी भोली भाली।
सीधी सादी बड़ी निराली,
दूध बहुत ही मीठा देती,
घास और पत्ते खा लेती।।
hindi poem goat hindi poem goat