hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

दरजी

hindi poem tailor
दरजी जी दरवाजा खोलो।
कपड़ा लाई सूट बना लो,
यह माषीन तो चलती रहती,
काज बनाती कपड़े सिलती।।
hindi poem tailor hindi poem tailor