hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

ठठेरा

hindi poem worker
ठक ठक ठक ठक करे ठठेरा।
उठता ज्यों ही हुआ सवेरा,
फिर मेहनत डटकर करता है,
बरतन बेच पेट भरता है।।
hindi poem worker hindi poem worker