hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

कबूतर

hindi poem pegion
करे कबूतर गुटरूँ गूँ।
बड़े ध्यान से उसे सुनूँ,
लगता भोला भाला है,
इसका रूप निराला है।।
hindi poem pegion hindi poem pegion