hindi ki bindi

Listen Music & FM channels

ओखली

hindi poem
ओखली काम मे आती है।।
अन्न कूटती जाती है,
धरती मे ही रहे जड़ी ,
इस पर पड़ती मार बड़ी।।
hindi poem
hindi poem