कविताएं

यज्ञ
यज्ञ हो रहा है सुखकारी।
होती शुद्ध हवा है सारी,
देखो जलती कैसी ज्वाला,
मिलता सबको मोद निराला।।